आठ फुट लम्बी बाबा अमरनाथ की बर्फ से निर्मित शिवलिंग झांकी दर्शन 24 को

0
61

पेमेश्वर गेट स्थित पेमेश्वरनाथ महादेव मंदिर के प्रांगण में होगा आयोजन

समिति ने की पुलिस प्रशासन, विद्युत विभाग, फायर बिग्रेड विभाग एवं नगर निगम के अधिकारियों से अपने अपने विभाग की व्यवस्था बनाने की मांग

फिरोजाबाद। जय बाबा अमरनाथ बर्फानी समिति के तत्वावधान में भगवान योगीराज के जन्म उत्सव के पावन पर्व पर समिति के तत्वावधान में रिपोर्ट- श्रीकृष्ण चित्तोणीबाबा अमरनाथ की पवित्र शिवलिंग की झांकी के दर्शन स्थानीय पेमेश्वर गेट स्थित पेमेश्वरनाथ महादेव मंदिर के प्रांगण में 24 अगस्त को सायंकाल छह बजे से होंगे
बाबा अमरनाथ की झांकी के दर्शन में सजीव कबूतरों का जोड़ा एवं दिल्ली, मथुरा, वृन्दावन व मुरादाबाद के कलाकारों द्वारा भव्य फूल बंगला एवं आठ फुट लम्बी बाबा अमरनाथ की बर्फ से निर्मित शिवलिंग की झांकी होगी, जो कि अदभुत होगी। शिवलिंग के निर्माण में लगभग आठ सौ बर्फ की सिल्लियों का प्रयोग किया जायेगा। 22 अगस्त से झांकी सजाने का कार्य प्रारम्भ कर दिया जायेगा। पूरे मंदिर प्रांगण को अदभुत रंगीन विद्युत सजावट की जायेगी
समिति द्वारा 24 अगस्त को जन्माष्टमी पर्व मनाने का निर्णय लिया गया है। क्योंकि मथुरा-वृंदावन में जन्माष्टमी पर्व 24 अगस्त को मनाया जायेगा। समिति द्वारा महिलाओं एवं पुरूषों के दर्शन के लिये अलग-अलग से व्यवस्था की गयी है। महिलाओं की सुरक्षा व्यवस्था एवं सुचारू रूप से दर्शन करने हेतु नौ दुर्गा वाहिनी की बहनों को व्यवस्था सौंपी गयी। पुरूषों की व्यवस्था के लिये समिति के 50 युवा साथी व्यवस्था संभालेंगे। झांकी के दर्शन सायं छह बजे से  रात्रि 12 बजे तक होंगे। समिति ने पुलिस प्रशासन, विद्युत विभाग, फायर बिग्रेड विभाग एवं नगर निगम के अधिकारियों से अपने अपने विभाग द्वारा व्यवस्था बनाने की मांग की है-
झांकी के दर्शन करने हेतु हजारों की संख्या में आने वाली जनता से अपने अपने सामान की स्वयं व्यवस्था एवं कीमती सामान न ले जाने की अपील की है। जनता से नंगे पैर आने की अपील की गयी

वार्ता के दौरान समिति के अध्यक्ष अरूण जैन, संरक्षक अनिल गर्ग, संजय गुप्ता इम्पीरियल, संस्थापक सचिव कृष्णगोपाल मीत्तल, मनोज शर्मा पिंटू, गौरव बंसल, धर्मेंद्र गुप्ता बाॅबी, अनुग्रह गोपाल अग्रवाल, विशाल राठौर, कन्हैयालाल गुप्ता, अखिलेश गुप्ता, चंद्रा राजपूत आदि मौजूद रहे-

रिपोर्ट- श्रीकृष्ण चित्तोणी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here